government subsidies for solar panels | mnre solar subsidy

government subsidy for solar panels 


सोलर पर सब्सिडी भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है ताकि स्वच्छ और हरित ऊर्जा यानी सौर ऊर्जा हर कॉर्पोरेट और निजी क्षेत्र तक पहुंच सके। इससे आपकी बचत तो बढ़ेगी ही साथ ही सरकारी ग्रिड पर आपकी निर्भरता भी खत्म होगी


सौर ऊर्जा अतुलनीय ऊर्जा का एक स्रोत है जो किसी भी प्रकार का प्रदूषण नहीं पैदा करती है। इसलिए सरकार हर तरह से सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने में लगी हुई है। सौर ऊर्जा आज न केवल हमारे थकाऊ संसाधनों का विकल्प है बल्कि हमारी प्रगति का प्रतीक बन गई है।


MNRE solar subsidy

एमएनआरई (नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय - केंद्र सरकार) ने 31 मार्च 2022 तक 227 गीगावाट (22,70,00,000 किलोवाट) स्थापित करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सरकार। सौर ऊर्जा को कई तरह से बढ़ावा दे रहा है। सरकार ने केवल सौर सब्सिडी के लिए 5,000 करोड़ रुपये की राशि का भी खंडन किया। अब आप कम कीमत पर सब्सिडी के साथ सोलर सिस्टम लगा सकते हैं। आइए जानते हैं कि सोलर सिस्टम पर आपको कितनी सब्सिडी मिलेगी और इसे हासिल करने की प्रक्रिया क्या होगी।


Check also :- government schemes for women's empowerment in india pdf


Solar Subsidy is available

एमएनआरई द्वारा नवीनतम अधिसूचना के अनुसार, सभी उपभोक्ताओं के लिए बेंचमार्क पूंजीगत लागत पर 30% से 90% सब्सिडी उपलब्ध है। लेकिन वास्तव में आपको सोलर पैनल पर कितनी सब्सिडी मिलेगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस क्षमता और किस प्रकार का सोलर सिस्टम लगा रहे हैं?


आइए जानते हैं किस क्षमता का सोलर सिस्टम लगाने पर आपको कितनी सब्सिडी मिलेगी।


1kW सोलर सिस्टम - 3kW सोलर सिस्टम = 40% सब्सिडी

4kW सोलर सिस्टम - 10kW सोलर सिस्टम = 20% सब्सिडी

10kW से अधिक सौर मंडल = कोई सब्सिडी नहीं


all type of government subsidy for solar panels 

सोलर सब्सिडी दरों के बारे में जानने के बाद अब सवाल यह उठता है कि क्या सभी तरह के सोलर सिस्टम पर सब्सिडी मिलती है। इसके लिए आपको सौर मंडल के प्रकार के बारे में कुछ जानकारी होनी चाहिए।


  • ऑन-ग्रिड सौर प्रणाली
  • ऑफ-ग्रिड सौर प्रणाली
  • हाइब्रिड सोलर सिस्टम

अब हम अपने प्रश्न पर आते हैं कि क्या इन सभी सौर प्रणालियों पर सौर सब्सिडी उपलब्ध है। जवाब न है"। सौर सब्सिडी ऑन-ग्रिड सौर प्रणालियों और हाइब्रिड सौर प्रणालियों (केवल बैटरी के बिना) के लिए उपलब्ध है। नई नीतियों के अनुसार ऑफ-ग्रिड और हाइब्रिड सोलर सिस्टम पर सब्सिडी का कोई प्रावधान नहीं है।


सोलर वाटर पंप पर 90% तक सब्सिडी का दावा

जी हां, आपने बिल्कुल सही सुना। अब आप सोलर वाटर पंप पर 90% तक सब्सिडी भी प्राप्त कर सकते हैं। भारत के समग्र विकास के लिए सरकार कृषि क्षेत्र पर विशेष ध्यान दे रही है। इसलिए सरकार कृषि के क्षेत्र में सौर ऊर्जा से चलने वाले पंपों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए किसानों को 90% तक की सब्सिडी प्रदान कर रही है। अब आप बहुत ही किफायती दामों पर अपने खेतों में सोलर पंप लगाकर अपने मुनाफे को दोगुना कर सकते हैं।


eligibility for government subsidies for solar panels

शायद अब आप सोच रहे होंगे कि क्या मैं भी सोलर सिस्टम पर सब्सिडी का पात्र हूं? यह सवाल ज्यादातर लोगों को परेशान करता है क्योंकि इसका सीधा जवाब कोई नहीं देता। भारत में सोलर पर सब्सिडी के लिए कौन पात्र है, यह जानने के लिए नीचे देखें।


  • सभी आवासीय मकान मालिक सरकार पाने के पात्र हैं। सोलर सिस्टम पर सब्सिडी
  • पंजीकृत सोसायटी, मल्टी-स्टोर अपार्टमेंट और सहकारी समूह हाउसिंग सोसायटी सब्सिडी के लिए पात्र हैं।
  • स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय जैसे संस्थान सौर सब्सिडी योजनाओं के लिए पात्र हैं।
  • एनपीओ (गैर-लाभकारी संगठन सहित), वृद्धाश्रम, अनाथालय आदि भी पात्र हैं।
  • जो किसान अपने खेतों में सोलर पंप लगाना चाहते हैं, वे सब्सिडी योजना का लाभ उठा सकते हैं।


Procedure for MNRE solar subsidy

सोलर पर सब्सिडी पाने का तरीका अब पूरी तरह बदल चुका है। सरकार ने आपको सब्सिडी देने का तरीका आसान कर दिया है। तो आइए जानते हैं सोलर पैनल सिस्टम को सब्सिडी देने का सही तरीका क्या है।


सरकार ने सब्सिडी प्रदान करने के लिए खुली बोली प्रणाली के माध्यम से प्रत्येक राज्य में कुछ सौर कंपनियों को अधिकृत किया है। ये सोलर कंपनियां ही आपको सोलर पर सब्सिडी दे सकती हैं।


सोलर कंपनी को सरकार से सब्सिडी कैसे मिलती है


सबसे पहले सोलर कंपनी आपका सोलर सिस्टम लगाएगी और नेट मीटरिंग के लिए रिक्वेस्ट करेगी। नेट मीटर अनुरोध प्रक्रिया के पूरा होने के बाद, नेट मीटर आपके सौर मंडल से जुड़ा हुआ है। नेट मीटर आपके सोलर सिस्टम की रिपोर्ट जेनरेट करता है और वही रिपोर्ट सब्सिडी के लिए सबमिट की जाती है।


government subsidy for solar panels
government subsidy for solar panels



एमएनआरई आपके सौर मंडल की रिपोर्ट का मूल्यांकन करेगा और स्वीकृति के बाद सब्सिडी राशि सौर कंपनी के खाते में भेज देगा। ध्यान रहे कि सब्सिडी आपके बैंक खाते में नहीं बल्कि सोलर कंपनी के खाते में आएगी। सोलर कंपनी सब्सिडी की राशि कम करने के बाद आपसे शेष भुगतान वसूल करेगी।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts