Read diwali essay in hindi

Diwali essay in hindi

दीपावली हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। हर देशवासी इस त्योहार का इंतजार कर रहा है। यह रोशनी और रोशनी का त्योहार है। इस दिन बच्चों को खाने और पटाखे बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की मिठाइयाँ मिलती हैं।

दीपावली पर भगवान गणेश और माँ लक्ष्मी की पूजा की जाती है। यह त्योहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। इस दिन घरों में दीपक जलाए जाते हैं। विभिन्न प्रकार की लाइटें, रंगीन लाइटें लगाई जाती हैं। लोग नए कपड़े पहनते हैं। शाम को मिठाईयां बांटी जाती हैं, और लोग दावत में जाते हैं।

When is 2021 Diwali?

यह त्यौहार 14 नवंबर 2021 को मनाया जाएगा।


History of Diwali For deepavali par nibandh : -

दीपावली भारत में मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है। यह त्योहार सिख, बौद्ध और जैन धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाता है। सिख समुदाय इसे बंदी दिवस के रूप में मनाता है।

 दिवाली के दिन, भगवान श्री राम 14 साल का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे। अयोध्या के निवासियों ने श्री राम के स्वागत के लिए घी के दीपक जलाए।

उस दिन कार्तिक मास की अमावस्या थी। अयोध्या के लोगों ने घोर अंधकार में प्रकाश करने के लिए दीपक जलाया।

 तब से, हर दिन सभी भारतीयों द्वारा प्रकाश पर्व (दीपावली) के रूप में मनाया जाता है। यह त्यौहार दिखाता है कि अच्छाई हमेशा बुराई पर विजय पाती है, सच्चाई हमेशा के लिए जीत जाती है। यह त्योहार कार्तिक माह की अमावस्या के दिन मनाया जाता है।

इस दिन भगवान राम सीता माता के साथ 14 वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या लौटे थे। 

उसी खुशी में यह त्योहार मनाया जाता है। इस दिन, पांडव 12 साल के वनवास के बाद घर लौटे थे। 

हिंदी कैलेंडर के अनुसार, नया साल दीपावली के दिन से शुरू होता है। यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत, अंधकार पर प्रकाश और अज्ञान पर ज्ञान को दर्शाता है।


Origin of the word ‘Deepawali.’ For diwali par nibandh :-


दीपावली शब्द की उत्पत्ति 2 संस्कृत शब्दों and दीप ’और। अवाली’ में हुई है। दीप का अर्थ है प्रकाश जबकि अवतरण का अर्थ है पंक्ति। इस तरह, दीपावली का अर्थ है रोशनी की रेखा।


Know about how to celebration of Diwali for diwali par nibandh?


सभी बच्चे और बुजुर्ग दिवाली त्योहार का इंतजार करते हैं। लोग अपने घरों को साफ करते हैं। वे हर तरह का कचरा उठाते हैं और उसे फेंक देते हैं। उसके बाद, दीवारें, घर रंगीन हो जाते हैं। दुकानदार अपनी दुकान में झाड़ू लगाते हैं और नई पेंटिंग बनाते हैं।

दीपावली आते ही सभी बाजार चमक उठे। माल से भरे हैं। बच्चे और पुरुष पटाखों के साथ अपनी खुशी मनाते हैं।

सभी लोग पूरे विधि-विधान के साथ गणेश, लक्ष्मी और अन्य देवताओं की पूजा करते हैं। देवी लक्ष्मी से घर आने का अनुरोध किया जाता है, जिससे घर में खुशहाली आती है।


Importance of Diwali for diwali nibandh

इस दिन, हजारों लोग सोने के गहने, बर्तन, कपड़े, और अन्य सामान खरीदते हैं। त्योहार दुकानदारों और व्यापारियों के लिए एक प्रधान है क्योंकि इस दिन बिक्री सबसे अधिक होती है। उन्हें अधिक से अधिक लाभ कमाने का मौका मिलता है।

सभी दुकानदार इस दिन का बेसब्री से इंतजार करते हैं। पटाखों और पटाखों के सामान के व्यापारी इस दिन सामान बेचकर बहुत लाभ कमाते हैं। पटाखे भी वायु और ध्वनि प्रदूषण का कारण बनते हैं।

दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस का त्योहार होता है। इस दिन, बाजार बहुत उज्ज्वल हैं। धनतेरस पर बर्तन, सोने के आभूषण, टीवी, फ्रिज, कूलर, वॉशिंग मशीन बनाना शुभ माना जाता है।

लोग शाम को पूजा करने के लिए खेले बत्शे और गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों को लाते हैं। दीपावली के दिन, लोग मानते हैं कि गणेश लक्ष्मी की पूजा करने से वह घर में आएंगी। हम सभी को लक्ष्मी (धन) की आवश्यकता है।

इसलिए, यह त्योहार और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। गणेश लक्ष्मी की पूजा करने से धन और सुख में वृद्धि होती है। घर में संपन्नता आती है। इस दिन, धन के देवता “कुबेर” की भी पूजा की जाती है।


Bhai Dooj and Deepawali

भाई दूज के दिन, भाई-बहन यमुना नदी में गठबंधन करते हैं और स्नान करते हैं। बहन भाई के माथे पर तिलक लगाती है और चाहती है कि वह हमेशा दुखों और दुखों से दूर रहे। भाई अपनी बहन को पैसे या अन्य कोई उपहार देता है।


Diwali festival abroad For diwali par nibandh


यह त्योहार भारत, नेपाल, श्रीलंका, मलेशिया, मॉरीशस, सिंगापुर, पाकिस्तान-ऑस्ट्रेलिया में मनाया जाता है। नेपाल में, इसे विशेष धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन, नेपाली युग में नया साल शुरू होता है।

  • नेपाल में दिवाली का त्योहार- पांच दिनों तक चलता है। पहले दिन कौवे की पूजा की जाती है। उसे प्रसाद दिया जाता है। दूसरे दिन, कुत्ते को उसकी ईमानदारी के लिए पेश किया जाता है। तीसरे दिन गाय को प्रसाद चढ़ाया जाता है। चौथे दिन बैल को प्रसाद चढ़ाया जाता है।
  •     मलेशिया में दिवाली पर, अन्य धर्मों के लोगों को घर पर रखा जाता है।
  •     तमिल संप्रदाय के लोग श्रीलंका में दीपावली मनाते हैं। इस दिन, नृत्य, दावत और आतिशबाजी की जाती है।
  •     संयुक्त राज्य अमेरिका में - दीपावली का त्यौहार व्हाइट हाउस में मनाया जाता है। दीवाली का त्योहार पहली बार 2003 में व्हाइट हाउस में मनाया गया था। इसकी घोषणा पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने की थी। 2009 में, राष्ट्रपति बराक ओबामा भी दिवाली के जश्न में शामिल हुए।
  •     बड़ी संख्या में भारतीय ब्रिटेन में रहते हैं। प्रिंस चार्ल्स अक्सर दिवाली के त्योहार में शामिल हुए हैं। दीपावली का त्योहार मुख्य रूप से ब्रिटेन में स्वामीनारायण मंदिर में मनाया जाता है।
  •     मॉरीशस- वहां बड़ी संख्या में हिंदू रहते हैं। दीवाली के दिन, वहाँ एक सरकारी अवकाश होता है।


Side effects of Diwali on the environment For deepawali par nibandh


दीपावली में उपयोग की जाने वाली पटाखों और आतिशबाजी सामग्री से कई प्रकार के नुकसान होते हैं। इन पटाखों के अंदर ज्वलनशील पदार्थ बारूद होता है। पटाखे कई प्रकार की दुर्घटनाओं का कारण बनते हैं।

मैग्नीशियम, सीसा, जस्ता। इसमें कैडमियम जैसे विषाक्त पदार्थ होते हैं। कई बार कारखाने में पटाखे बनाते समय ज्वलनशील पदार्थ फट जाते हैं। हर साल कई मजदूरों की जान चली जाती है। इन पटाखों को चलाने के कई नुकसान हैं।

पटाखों में कई बच्चे और बड़े भी घायल हो जाते हैं। मोहल्ले में भी आग लगी है। ये पटाखे बहुत सारे धुएं और गैसों को छोड़ते हैं, जो वायु प्रदूषण का कारण बनते हैं। इसलिए, सरकार अब आतिशबाजी और आतिशबाजी सामग्री पर प्रतिबंध लगा रही है।

पटाखे सिर्फ तीन दिनों के लिए बेचे जाते हैं। इस प्रकार का वायु प्रदूषण कई बीमारियों का कारण बनता है। अस्थमा और हृदय रोगियों को सांस लेने में परेशानी होती है। इसके अलावा, छोटे बच्चों को सांस लेने में भी कठिनाई होती है। इसलिए हम सभी को प्रदूषण मुक्त दिवाली मनानी चाहिए।

How to celebrate Deepawali without pollution?

  • Important Points for diwali nibandh in hindi

हो सके तो दिवाली पर्व पर पटाखे न बजाएं। यदि आवश्यक हो तो पर्यावरण के अनुकूल पटाखे चलाएं। तेज आवाज वाले पटाखे बिल्कुल न चलाएं, क्योंकि इससे दुर्घटना होने की बहुत संभावना होती है। इसके अलावा, उच्च कैलिबर पटाखे से दूर रहें।

इससे बड़ी दुर्घटनाएं हो सकती हैं। पटाखों को हमेशा अधिकृत लाइसेंस प्राप्त दुकानों से खरीदा जाना चाहिए। सस्ते और चाइनीज पटाखों से दूर रहें क्योंकि इन्हें चलाते समय दुर्घटना होने की संभावना अधिक होती है। रॉकेट का उपयोग खुले स्थानों में किया जाना चाहिए। पटाखों को पास नहीं चलाना चाहिए। उन्हें दूर से चलाया जाना चाहिए। अस्थमा और अस्थमा के मरीजों को पटाखों से दूर रहना चाहिए।

आतिशबाजी के दौरान वायु प्रदूषण के कारण बहुत सारा धुआं और गैस वायुमंडल में चला जाता है। इसीलिए कई लोग दीपावली पर पटाखे न जलाने की सलाह देते हैं। पटाखों पर बहुत पैसा खर्च किया जाता है। अगर हम इस पैसे को किसी गरीब व्यक्ति को दे दें, तो पैसा सार्थक हो जाएगा।

सभी लोगों को दीपावली का त्योहार धूमधाम से मनाना चाहिए। इस दिन आतिशबाजी से बहुत अधिक वायु प्रदूषण होता है, और ये पटाखे बहुत खतरनाक भी होते हैं। हर साल आतिशबाजी के दौरान कई लोग घायल हो जाते हैं। हमारी परंपरा हमें साफ, सुंदर और सुरक्षित दिवाली मनाने के लिए सिखाती है।

Conclusion For diwali essay in hindi :-


मुझे उम्मीद है कि आपको यह Essay on Diwali Festival in Hindi पसंद आया होगा। हम सभी को पर्यावरण को बचाने, पर्यावरण की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के लिए हर साल दिवाली मनानी चाहिए। साथ ही बच्चों को दिवाली का सही महत्व बताना चाहिए ताकि आने वाली कुर्सी भी इससे सीख ले और यह परंपरा जारी रहनी चाहिए।

10 lines on Diwali in Hindi / Diwali essay in hindi for child


1) दिवाली को रोशनी के त्योहार के रूप में जाना जाता है।

2) दिवाली भारत का सबसे प्रसिद्ध और सबसे बड़ा त्योहार है।

३) यह त्यौहार भगवान राम की याद में मनाया जाता है जो चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे।

४) इस अवसर पर हिन्दू मोमबत्तियाँ जलाते हैं और अपने घरों को रंगोली से सजाते हैं।

5) हिंदू बच्चे इस त्योहार पर बहुत खुश होते हैं, पटाखे जलाते हैं।

6) हिंदुओं में इस अवसर पर धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं।

7) युवा, वयस्क और बूढ़े सभी देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।

8) हिंदू अपने दोस्तों और पड़ोसियों के साथ मिठाई और उपहार साझा करते हैं।

9) भारत में सार्वजनिक अवकाश मनाया जाता है और लोग बड़े उत्साह के साथ इस त्योहार का आनंद लेते हैं।

10) यह हिंदुओं के सबसे प्रिय और सुखद त्योहारों में से एक है।

 

 

 

No comments:

Post a Comment

CBSE previous paper

[cbse previous paper][bsummary]

Syllabus in Hindi

[syllabus-in-hindi][bsummary]

Popular Posts