All Patwari Syllabus in Hindi 2021

 

 

Haryana Syllabus

Read all Haryana Syllabus in hindi for 2021




Rajasthan patwari

Read Everything about Rajasthan patwari syllabus in Hindi




PSSSB Syllabus

Read Everything about Punjab Patwari Syllabus in Hindi for 2021




 

Patwari एक गाँव में गाँव का खाता या प्रशासनिक अधिकारी होता है जो गाँव के भूमि रिकॉर्ड को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता है।

भारत की लगभग 70% आबादी अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है और भारत का लगभग 43% कार्यबल कृषि में कार्यरत है। इसलिए, भारत में पटवारी का काम महत्वपूर्ण है।

Patwari  शब्द का प्रयोग ज्यादातर उत्तर और मध्य भारत में किया जाता है। अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग शब्दों का इस्तेमाल होता है। उदाहरण के लिए, तलाती शब्द का प्रयोग महाराष्ट्र, गुजरात और कर्नाटक में किया जाता है।

What is the role of a Patwari?


एक
Patwari के कर्तव्यों में गांव में उगाई जाने वाली सभी फसलों की रिकॉर्डिंग, सभी भूमि के अद्यतन रिकॉर्ड और उनके स्वामित्व को शामिल करना शामिल है।

 पटवारी भूमि राजस्व, सिंचाई बकाया और अन्य करों को भी एकत्र करता है। 

पटवारी को सांख्यिकीय प्रयोजनों के लिए फसलों, फसल, और भूमि अधिकारों से संबंधित सभी विवरणों का रिकॉर्ड भी रखना पड़ता है। 

पटवारी भूमि को मापने के लिए प्रभारी है और सभी भूखंडों के नक्शे की तरह विवरण रखता है। पटवारी जनगणना के लिए डेटा एकत्र करने में भी शामिल है।

पटवारियाँ भूमि से संबंधित गाँवों के विवादों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। किसान विभिन्न भूखंडों के बीच भ्रम और विवादों को दूर करने के लिए पटवारी से संपर्क कर सकते हैं।

Who introduced the Patwari system in India?


पटवार प्रणाली को शेर शाह सूरी द्वारा भारतीय उपमहाद्वीप में पेश किया गया था। 

उनके शासन के दौरान अकबर द्वारा इस प्रणाली को और बढ़ाया गया था। अंग्रेजों ने प्रणाली में कुछ मामूली समायोजन किए लेकिन व्यवस्था बनाए रखी।

 1814 में, एक कानून बनाया गया जिसने भारत के प्रत्येक गाँव को सरकार के एक आधिकारिक एजेंट के रूप में पटवारी बनाए रखना अनिवार्य कर दिया।

पटवारियों ने उगाई गई सभी भूमि और फसलों पर नज़र रखकर गाँव में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 

वे गांव में सरकार के प्रतिनिधि भी हैं, यही वजह है कि वे एक ग्रामीण सेटअप में महत्वपूर्ण शक्ति और प्रभाव दिखाते हैं।

No comments:

Post a Comment

CBSE previous paper

[cbse previous paper][bsummary]

Syllabus in Hindi

[syllabus-in-hindi][bsummary]

Popular Posts