All details's rashtriya krishi vikas yojana UPSC in Hindi

Introduction for rashtriya krishi vikas yojana upsc

उत्तर प्रदेश की समृद्ध जैव विविधता और खेती की जलवायु परिस्थितियाँ विभिन्न बागवानी फसलों के उत्पादन के लिए काफी उपयुक्त हैं। राज्य में फल, सब्जियां, मसाले, आलू, फूल, औषधीय और सुगंधित पौधों जैसी बागवानी फसलों के उत्पादन के लिए बड़े क्षेत्र हैं। इन फसलों का प्रति यूनिट अधिक उत्पादन प्राप्त करने, पोषण सुरक्षा प्रदान करने, खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों के लिए कच्चे माल की आपूर्ति, विदेशी मुद्रा अर्जित करने और अंततः राज्य के लोगों के सामाजिक और आर्थिक उन्नयन के लिए विशेष महत्व है।


राष्ट्रीय कृषि विकास योजना राज्य के 30 जिलों में मिशन पैटर्न पर संचालित की जा रही है, जो राष्ट्रीय बागवानी मिशन (एन.एच.एम.) के अंतर्गत नहीं आते हैं। इस योजना के तहत क्रमशः भारत सरकार और राज्य सरकार की ओर से 60% और 40% वित्तीय सहायता का प्रावधान है।


Benefits of rashtriya krishi vikas yojana upsc


परियोजना के क्रियान्वयन से निम्नलिखित लाभ होंगे:-


  • प्रत्यक्ष पर्यावरण सुरक्षा प्राप्त करने के लिए।
  • पर्यावरण सुरक्षा के प्रति लोगों को जागरूक करना।
  • पोषण सुरक्षा पर समाधान।
  • मृदा स्वास्थ्य में अद्यतनीकरण।
  • गुणवत्तापूर्ण फल उत्पादन में वृद्धि।
  • कैनोपी प्रबंधन/नवीनीकरण को लागू करके अनुत्पादक उद्यानों में उत्पादन क्षमता में वृद्धि।
  • अतिरिक्त रोजगार का सृजन।

How to apply rashtriya krishi vikas yojana

योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को www.upagriculture.com पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। पंजीकरण जन सुविधा केंद्र, किसान लोक वाणी और साइबर कैफे के माध्यम से किया जा सकता है।


Eligibility conditions for applicants:

  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक को उन्हें आधिकारिक वेबसाइट www.upagriculture.com पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • कार्यक्रम के तहत सभी श्रेणियों के आवेदक पात्र होंगे। महिला आवेदकों और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के आवेदकों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • लाभार्थी के पास सिंचाई के अपने साधन होने चाहिए।
  • आवेदन के साथ भूमि अभिलेख संलग्न करना अनिवार्य होगा।
  • लाभार्थी किसान का अपना बैंक खाता होना चाहिए।
  • लाभार्थी के पास वोटर कार्ड/राशन कार्ड/आधार कार्ड/पासपोर्ट में से कोई एक पहचान प्रमाण उपलब्ध होना चाहिए।


Districts covered under the scheme

इस योजना के तहत, निम्नलिखित 30 जिलों को शामिल किया गया है जो राष्ट्रीय बागवानी मिशन (एन.एच.एम.) के अंतर्गत नहीं आते हैं:-


गौतम बौद्ध नगर, बागपत, शामली, हापुड़, अमरोहा, बिजनौर, रामपुर, संभल, पीलीभीत, शाहजहांपुर, बदायूं, एटा, कासगंज, अलीगढ़, फिरोजाबाद, उरैया, कानपुर देहात, फतेहपुर, हरदोई, लखीमपुर खीरी, अंबेडकर नगर, अमेठी, गोंडा, बलरामपुर, बहराइच, श्रावस्ती, चंदौली, आजमगढ़, मऊ और देवरिया”

Objectives of the scheme for Rashtriya Krishi Vikas Yojna

योजना के प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार हैं:-


बागवानी क्षेत्र को सर्वांगीण विकास प्रदान करना जिसमें अनुसंधान, तकनीकी प्रगति, विस्तार, कटाई के बाद के प्रबंधन, प्रसंस्करण और विपणन को क्षेत्र आधारित स्थानीय विभेदित रणनीति के माध्यम से शामिल किया जाता है, साथ ही हर राज्य / क्षेत्र के तुलनात्मक लाभ और विभिन्न कृषि मौसम विशेषताओं के साथ सामंजस्य स्थापित किया जाता है।


बागवानी उत्पादन में वृद्धि करने, पोषण सुरक्षा में सुधार और किसानों के लिए आय सृजन में सहायता करने के लिए


बागवानी विकास के लिए चलाए जा रहे विभिन्न नियोजित कार्यक्रमों को सहयोगात्मक एवं सहक्रियात्मक बनाना तथा इन कार्यक्रमों को एक दूसरे के लिए कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करना।


  • पारंपरिक समझ के साथ-साथ आधुनिक वैज्ञानिक जानकारी के माध्यम से प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देना, जो इसके निर्बाध रूप में उपलब्ध है, इसे विकसित करने और इसके प्रसार के लिए
  • विशेष रूप से बेरोजगार युवा वर्ग के लिए कुशल और अकुशल लोगों के लिए रोजगार सृजन के अवसर उपलब्ध कराना।


  • Strategy:

उपर्युक्त उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित रणनीति अपनाई जा रही है:


  • एक स्थान से दूसरे स्थान तक सघन क्षेत्रों के सर्वांगीण विकास द्वारा किसानों/उत्पादकों की उपयुक्त आय सुनिश्चित करना, जिसमें उत्पादन, कटाई उपरांत प्रबंधन, प्रसंस्करण और विपणन शामिल हैं।

निम्नलिखित के माध्यम से क्षेत्र को कवर करना और उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि:

  • पारंपरिक फसलों के बागानों को फूलों, सब्जियों और मसालों के उत्पादन क्षेत्रों में परिवर्तित करना
  • उच्च तकनीक की बागवानी के संबंध में किसानों में उपयुक्त प्रौद्योगिकी के बारे में जानकारी का प्रसार करना।
  • पैक हाउस जैसी कटाई उपरांत सुविधाओं की स्थापना में सहायता करना।
  • तकनीकी हस्तांतरण के माध्यम से नवीनतम तकनीकों से अवगत कराकर किसानों की क्षमता निर्माण को बढ़ावा देना।
  • एक स्थान से दूसरे स्थान तक सघन क्षेत्रों के सर्वांगीण विकास द्वारा किसानों/उत्पादकों की उपयुक्त आय सुनिश्चित करना।
  • सभी स्तरों पर मानव संसाधन विकास और क्षमता निर्माण को बढ़ावा देना।


Rashtriya Krishi Vikas Yojna Responsibility of execution of programs


जिला बागवानी अधिकारी योजना के उद्देश्यों, कार्यक्रम के क्रियान्वयन और जिला स्तर पर इसकी निगरानी के लिए जिम्मेदार होंगे। जिले में कार्यक्रमों का निष्पादन, सत्यापन, दस्तावेजीकरण एवं मूल्यांकन जिला उद्यान अधिकारी द्वारा सुनिश्चित किया जायेगा। 


वह जिले के लिए पूर्व निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्यक्रमों के तहत सभी गतिविधियों के लिए भी जिम्मेदार होगा जैसे लाभार्थियों का चयन, गुणवत्ता निवेश का समय पर प्रबंधन और लाभार्थियों को उनकी उपलब्धता, अभिलेखों का रखरखाव, शत-प्रतिशत सत्यापन, अनुदान का भुगतान, पूरा करना दिशानिर्देशों का पालन करके और वित्तीय नियमों का पालन करके लक्ष्य आदि। साथ ही नवीन बागबानी कार्यक्रम के तहत लगाए गए पौधों की उत्तरजीविता सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी जिला उद्यान अधिकारी की होगी।


क्षेत्रीय उप निदेशक, बागवानी क्षेत्रीय स्तर पर कार्यक्रम के समीक्षा/पर्यवेक्षण अधिकारी होंगे। वह क्षेत्रीय योजना के अंतर्गत आने वाले जिलों में कार्यक्रमों के 20% लाभार्थियों का सत्यापन करेगी। वह आपूर्ति के समय चढ़ाना सामग्री की गुणवत्ता सुनिश्चित करेगा, प्रयोगशाला से नमूनों की जांच करवाएगा और जरूरत पड़ने पर मुख्यालय को अपनी टिप्पणी के साथ मिट्टी परीक्षण के परिणाम अग्रेषित करेगा। वह निवेश का सत्यापन भी करेगा और इसकी मौसमी व्यवस्था की समीक्षा करेगा।


जिलों में क्रियान्वित कार्यक्रमों का समय-समय पर अवलोकन, अनुश्रवण एवं समीक्षा राज्य स्तर पर मुख्यालय द्वारा की जायेगी। बजट आवंटन, स्वीकृत राशि के उपयोग, बजट का अभ्यर्पण और प्रचलित नियमों के अनुसार उपयोगिता प्रमाण पत्र समय पर प्रेषण की जिम्मेदारी मुख्यालय के मुख्य वित्त अधिकारी और लेखा अधिकारी की होगी.

No comments:

Post a Comment

Popular Posts